क्रिप्टोकरेंसी के जन्म की कहानी (A dive into the birth of a Cryptocurrency)

लेखक: नवम्बर 23, 2021जनवरी 21st, 2022अनुमानित पढ़ने का समय: 4 मिनट

नोट: यह ब्लॉग एक बाहरी ब्लॉगर के द्वारा लिखा गया है। इस पोस्ट में व्यक्त विचार और राय पूरी तरह से लेखक के हैं।

आजकल बहुत से लोगों की रुचि क्रिप्टोकरेंसी में बढ़ी है। क्रिप्टोकरेंसी में रुचि अब तक के उच्चतम स्तर पर है, चाहे वह लोकप्रिय टोकन की तकनीक की जिज्ञासा के कारण हो या बस उनसे लाभ उठाने की इच्छा के कारण हो। 

हम में से कई लोग लाभ के लिए क्रिप्टोकरेंसी खरीदते और बेचते हैं, उसी तरह जैसे हम पारंपरिक शेयरों के साथ करते हैं, पर ये थोड़े अलग हैं। जब आप स्टॉक खरीदते हैं, तो आप एक कंपनी में स्वामित्व का एक अंश खरीद रहे होते हैं, जबकि क्रिप्टोकरेंसी के साथ, आपके पास एक्सचेंज का माध्यम होता है और ‘कंपनी’ में खरीदारी नहीं करते हैं जब तक कि आप आईसीओ में भाग नहीं लेते। इसके अलावा, ब्लॉकचेन की विकेंद्रीकृत प्रकृति, इसकी अंतर्निहित तकनीक के कारण क्रिप्टो को स्टॉक के रूप में विनियमित नहीं किया जाता है। इसी कारण इसमें लोगों की दिलचस्पी बढ़ी है। 

हालांकि, बिटक्वाइन और ईथर जैसे लोकप्रिय टोकन के आंतरिक कामकाज के बारे में जिज्ञासा इस रुचि के कारण होती है। हम में से कई, विशेष रूप से, क्रिप्टोकरेंसी की उत्पत्ति के बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं। यह देखते हुए कि क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से डिजिटल क्षेत्र में मौजूद है और केंद्रीय बैंक द्वारा जारी नहीं की जाती, गैर-तकनीकी लोगों के लिए यह समझना मुश्किल हो सकता है कि बिटक्वाइन कहां से उत्पन्न होता है और यह कैसे कार्य करता है।

हालांकि बिटक्वाइन जटिल है, इसकी आंतरिक कार्यप्रणाली उतनी हैरान करने वाली नहीं है जितनी लोग सोचते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी किस प्रकार बनाई जाती है?

यदि आपने कोई क्रिप्टो या ब्लॉकचेन से संबंधित साहित्य पढ़ा है, तो आप शायद “माइनिंग” शब्द के बारे में जानते होंगे। माइनिंग क्रिप्टोकरेंसी उद्योग में अक्सर उपयोग किया जाने वाला शब्द है क्योंकि यह वो तरीका है जिसके द्वारा क्रिप्टोकरेंसी वितरित की जाती है। 

एक बात का ध्यान रखें कि सभी क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन पर बनी हैं और क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित सारे लेनदेन ब्लॉकचेन पर होते हैं। ब्लॉकचेन पर लेनदेन पूरा करने से पहले इसका अनुरोध या इसकी पहल की जानी चाहिए। सत्यापन पुष्टि की प्रक्रिया होती है और इसे प्रभावी ढंग से कार्य करने के लिए नियमित रूप से ब्लॉकचेन नेटवर्क (जैसे बिटक्वाइन नेटवर्क) पर किया जाना चाहिए। 

ये सत्यापन कंप्यूटर के नेटवर्क द्वारा किए जाते हैं, और जो लोग लेनदेन को मान्य करने के लिए अपने कंप्यूटर को इस्तेमाल करने देते हैं उन्हें नेटवर्क के मूल टोकन से पुरस्कृत किया जाता है। इस प्रकार की गतिविधि को माइनिंग कहते हैं। 

हालांकि, माइनिंग का तरीका अलग-अलग होता है और ऐसा करने के लिए दो ब्लॉकचेन सिस्टम का उपयोग किया जा सकता है: प्रूफ-ऑफ-वर्क और प्रूफ-ऑफ-स्टेक। दोनों के बीच मुख्य अंतर यह है कि सत्यापन किस प्रकार पूरा किया जाता है। प्रूफ-ऑफ़-वर्क सिस्टम में सत्यापनकर्ताओं को एक जटिल गणितीय पहेली को हल करने के लिए अपने कंप्यूटर का उपयोग करना होता है। 

माइनिंग प्रक्रिया में शामिल लोगों को लेन-देन के एक समूह (एक ब्लॉक) के मान्य होने के बाद टोकन की एक पूर्वनिर्धारित मात्रा के साथ पुरस्कृत किया जाता है और इस तरह से बाजार में अधिक क्वाइंस/टोकन आते हैं। बिटक्वाइन नेटवर्क प्रूफ-ऑफ-वर्क सिस्टम का एक उदाहरण है जो बहुत अधिक ऊर्जा का उपयोग करता है।

प्रूफ-ऑफ-स्टेक नेटवर्क में सत्यापनकर्ता केवल वे लोग नहीं होते जो जटिल गणितीय पहेली को हल करने का निर्णय लेते हैं। इसके बजाए सत्यापनकर्ताओं को इस आधार पर चुना जाता है कि उनके पास पहले से कितने टोकन हैं, यानी उनके पास नेटवर्क में कितनी बड़ी हिस्सेदारी है। इसके अलावा, प्रूफ-ऑफ-वर्क के विपरीत, प्रूफ-ऑफ-स्टेक सिस्टम में बहुत कम ऊर्जा की खपत होती है; उदाहरणों में पोल्काडॉट, EOSIO और कार्डानो शामिल हैं, इथेरियम जल्द ही इस प्रणाली में माइग्रेट करने की योजना बना रहा है, इससे इसके वर्तमान ऊर्जा उपयोग का 95% तक कम हो जाएगा।

क्रिप्टो की कीमत किस प्रकार तय की जाती है?

आज कल हजारों क्रिप्टोकरेंसी प्रचलन में हैं, लेकिन कुछ की कीमत दसियों हज़ार डॉलर है जबकि अन्य की कीमत काफी कम हैं। इसका कारण क्या है? और कुछ क्रिप्टोकरेंसी दूसरों की तुलना में अधिक मूल्यवान क्यों हैं? 

माइनिंग के माध्यम से बनाए गए सारे बिटक्वाइन (या क्वाइन) माइनर के पास नहीं होते। इसके बजाए कई क्वाइंस को एक्सचेंज प्लेटफॉर्म और अन्य साइटों को खरीदने के लिए बेच दिया जाता है, इस तरह वे पूरे बाजार में फैल जाते हैं। जिस कीमत पर टोकन आम जनता को बेचा जाएगा, उसे विभिन्न मानदंडों द्वारा निर्धारित किया जाता है।

इसके साथ ही माइनिंग की लागत का मुद्दा होता है। माइनिंग उपकरण और बिजली की लागत को कवर करने के लायक राशि के लिए प्रूफ-ऑफ-वर्क टोकन बेचा जाना चाहिए। हालांकि, क्रिप्टोकरेंसी की कीमत निर्धारित करने में मांग और आपूर्ति सबसे महत्वपूर्ण कारक होते हैं। 

कुल मिलाकर, कुछ के लिए क्रिप्टोकरेंसी पैसा है, और पैसे का मूल्य प्राप्त होता है। उदाहरण के लिए, डॉजकोइन को लें, जो अधिकांश समय एक अल्पविकसित क्रिप्टोकरेंसी के रूप में जाना गया। हालांकि, जब एलोन मस्क ने टोकन के बारे में ट्वीट करना शुरू किया, तो इसकी कीमत आसमान छूने लगी।

सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन की कीमत में विभिन्न कारकों के कारण उतार-चढ़ाव होती रहती है। प्रतिबंधित आपूर्ति के कारण (प्रत्येक ब्लॉक के लिए वितरित टोकन की संख्या में गिरावट) हर बार इसकी कीमत बढ़ जाती है। हर बार एक नया विकास होता है जो बिटक्वाइन की मांग को बढ़ाता है जिससे आपूर्ति और मांग के पुराने स्थापित नियम के अनुसार कीमत बढ़ जाती है।

निष्कर्ष

जबकि हम में से बहुत से लोग क्रिप्टोकरेंसी से अपरिचित हैं, उनके आंतरिक कामकाज और बुनियादी सिद्धांतों को आसानी से वर्णित किया जा सकता है, जिससे हमें इस नवीन अवधारणा की बेहतर समझ मिलती है।

अस्वीकरण: क्रिप्टोकुरेंसी कानूनी निविदा नहीं है और वर्तमान में अनियमित है। कृपया सुनिश्चित करें कि आप क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करते समय पर्याप्त जोखिम मूल्यांकन करते हैं क्योंकि वे अक्सर उच्च मूल्य अस्थिरता के अधीन होते हैं। इस खंड में दी गई जानकारी किसी निवेश सलाह या वज़ीरएक्स की आधिकारिक स्थिति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। वज़ीरएक्स अपने विवेकाधिकार में इस ब्लॉग पोस्ट को किसी भी समय और बिना किसी पूर्व सूचना के किसी भी कारण से संशोधित करने या बदलने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

Leave a Reply